उत्तराखंड: सब इंस्पेक्टर ने लगाई फांसी, सामने आई चौंकाने वाली वजह

  • सीआरपीएफ के सब इंस्पेक्टर ने लगाई फांसी.

  • काठगोदाम में थी तैनाती.

  • नहीं करना चाहता था नौकरी.

हल्द्वानी: कई बार ऐसा होता है कि हम जो चाहते वो हो नहीं पाता है और जो होता है उसे करना नहीं चाहते। हमारा मन भी उसके लिए तैयार नहीं होता है। भावनात्मक रूप से यह बात अंदर तक परेशान कर देती है। कुछ ऐसा ही सीआरपीएफ के सब इंस्पेक्टर 26 साल के सचिन के साथ भी हुआ होगा। सचिन ने अच्छी नौकरी होने के बाद भी आत्महत्या कर ली।

बताया जा रहा है कि सचिन नौकरी नहीं करना चाहता था। वो अपनी नौकरी से खुश नहीं था। बैरक में लौटे साथी ने जब शव फंदे पर लटका देखा तो अधिकारियों को सूचना दी। काठगोदाम पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है। मूलरूप से हरियाणा की झरझर तहसील स्थित थाना सलहाबाज के गांव बिथला और पोस्ट ढकिया निवासी सचिन की एक महीने पहले ही CRPF केंद्र काठगोदाम में सब इंस्पेक्टर के पद पर नियुक्ति हुई थी।

एसपी सिटी हरबंस सिंह ने बताया कि शनिवार दोपहर बैरक में सचिन और उनके साथी मौजूद थे। सचिन के साथी खाना खाने गये थे। उसी दौरान सचिन ने फांसी का फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली। खाना खाकर लौटे सचिन के साथियों ने सचिन को फंदे पर लटका देखा तो हैरान रह गए और आनन-फानन उच्चाधिकारियों को सूचना दी। बैरक में पहुंचे उच्चाधिकारियों की सूचना पर काठगोदाम पुलिस पहुंची और शव को नीचे उतारा। जानकारी के मुताबिक शव चादर के सहारे लटका हुआ था। शुरुआती जांच पड़ताल के बाद पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और देर शाम पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया।

फांसी की सूचना पर पहुंची काठगोदाम पुलिस ने जब पूछताछ की तो पता चला कि सचिन सीआरपीएफ की नौकरी से खुश नहीं था और नौकरी नहीं करना चाहता था। 22 जुलाई को सचिन से मिलने पहुंचे पिता विजय कुमार और मां ने उससे बातचीत भी की थी। उन्होंने दूसरी नौकरी न मिलने तक इसी नौकरी में बने रहने की बात कही थी।

शनिवार सुबह बेटे से मिलने के बाद परिजन सीआरपीएफ केंद्र से चले गए थे। रास्ते में ही बेटे की मौत की सूचना मिलने पर वे बेसुध हो गए और वापस लौट आए। जानकारी के मुताबिक तीन माह पहले ही सचिन की शादी हुई थी। मौत को गले लगाने से पहले पत्नी से भी फोन पर बात की थी। सचिन का शव उसके मूल निवास लेजाया जा रहा है, जहां उसका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

उत्तराखंड