Category: साहित्य

दृढ़संकल्प करना अर्थात असम्भव को सम्भव के रूप मे देखना

देहरादून : जिसे दुनिया असम्भव मानती है, उसे सम्भव करके दिखाना है। इसके लिये परिवर्तन के दृढ़संकल्प का व्रत लेना है। व्रत करना अर्थात वृत्ति में परिवर्तन करना। दृढ़ संकल्प…

जो स्वयं को धोखा देने वाले होते है वह देते है सभी को धोखा

देहरादून : जो स्वयं को धोखा देने वाले होते है वह देते है सभी को धोखा. अपने प्रगति के आदि से अन्त तक का रजिस्टर चेक करना है कि हमने…

भाग्य को साथ रखना अर्थात भाग्य विधाता को साथ रखना

देहरादून : हरेक व्यक्ति के पास तन,मन को श्रेष्ठ बनाने अधिकार जन्म से ही प्राप्त होता है। ईश्वर जन्म से ही हमे सर्व शक्तियों के लिये जन्म-सिद्ध अधिकार का अधिकारी…

अपने को हर सेकेण्ड बिजी रखना ही है परिवर्तन का मूल आधार

मनोज श्रीवास्तव देहरादून : परिवर्तन का मूल आधार है अपने को हर सेकेण्ड बिजी रखना। कर्म के सेवा में बिजी रहने से सफलता का परिवर्तन स्वतः होता है। सदैव अन्दर…

इंटरनेट डिजिटल का जरूरत से ज्यादा प्रयोग करने से हमारे ब्रेन और सोचने पर होता है असर – मनोज श्रीवास्तव

चिल्ड्रेन पर्सनालिटी ई-कैम्प, डिजिटल वेलनेस देहरादून : आज की दुनिया में हर कार्य डिजिटल तरीके से हो रहा है। डिजिटल कार्य, ऑफिशियल कार्य, डिजिटल गेम, डिजिटल चौट, डिजिटल शॉपिंग, डिजिटल…