कालागढ़ (दीपक कुमार)। क्षेत्र में इन दिनों बाघ का आतंक लगातार बढ़ता जा रहा है । जहाँ पिछले कई दिनों से एक मादा बाघिन अपने तीन शावकों को लेकर इलाके में घूम रही है और लोगों के लिये डर का पर्याय बनी हुई है वहीं ताजा मामला रविवार रात्रि का है जहां एक बाघ ड्यूटी पर जाते बाइक सवार युवक के सामने आ गया। घबराहट में बाईक सवार गिर गया , बाघ आक्रामक मुद्रा में उसकी और बढ़ने लगा तभी मौके पर मौजूद लोगों के शोर शराबा करने पर बाइक सवार की जान बच पायी ।
बीते कुछ दिनों से इलाके में एक बाघिन की सक्रियता के चलते भी लोगों में डर का माहौल बना हुआ है ऐसे में मानव वन्यजीव संघर्ष ना हो व कोई घटना ना घटे इसके लिए वन विभाग ने गश्ती दलों की भी सक्रियता बढ़ा दी है । परंतु इस सबके बाबजूद भी बाघ व मानवो का टकराव लगातार हो रहा है । बीते रविवार रात्रि को सिंचाई विभाग में कार्यरत एक युवक साजिद निवासी पुराना कालागढ़ रात्रि में लगभग 8:30 बजे ड्यूटी पर जा रहा था तभी केंद्रीय कलोनी व सुखा स्रोत पुल के समीप एक बाघ अचानक गाड़ी के सामने आ गया बाघ को देख घबराहट में सिंचाई कर्मी गिर गया । बाघ हमले की मुद्रा में युवक की तरफ बढ़ा युवक के जोर जोर से चिल्लाने पर थोड़ी दूरी पर मौजूद अन्य लोगों ने इस घटनाक्रम को देख शोर मचा दिया जिसे सुनकर बाघ युवक को छोड़ जंगल मे चला गया । साजिद ने बताया कि यह शावकों वाली बाघिन थी या नर बाघ इसका तो नही पता । परन्तु यदि समय पर लोग नही आते तो बाघ ने शायद मुझे अपना निवाला बना लिया होता ।

शहर के इर्दगिर्द ही घूम रही शावकों वाली बाघिन 

लगभग बीस दिन से एक मादा बाघ अपने तीन शावकों के साथ इलाके में घूम रही है सुरक्षा के मद्देनजर वन विभाग की एक टीम रविदास मंदिर पर सतर्क रहती है परंतु उसके बाद भी बाघिन इलाके में बनी हुई है हालांकि वन विभाग ने दावा किया था कि बाघिन शावकों के साथ वनों में लौट गई है परंतु इस दावे को बाघिन ने तब खारिज किया जब चार दिन पहले ही उसने अपनी मौजूदगी इंटर कालेज के समीप दर्ज कराई । इस बात की आशंका बहुत ज्यादा है कि जल्द ही बच्चों की सुरक्षा के चलते यह किसी पर जानलेवा हमला कर दे ।