उत्तराखंड : अग्निवीर बनने के लिए 4 दिन में इतने हजार युवाओं का रजिस्ट्रेशन

पौड़ी: अग्नीपथ योजना के तहत अग्नि की रोक की भर्ती का रजिस्ट्रेशन शुरू हो गया है। उत्तराखंड में अग्नि वीरों की भर्ती लैंसडाउन भर्ती कार्यालय की ओर से कराई जाएगी, जिसके लिए जिलेवार भर्ती का कार्यक्रम घोषित किया जाएगा। 1 से 4 जुलाई तक 4 हजार युवाओं ने अग्निवीर बनने के लिए आवेदन कर लिया है। एक जुलाई से शुरू हुई पंजीकरण प्रक्रिया की अंतिम तिथि 30 जुलाई है।

जिलेवार होगी भर्ती रैली

लैंसडौन स्थित सेना भर्ती कार्यालय के तहत होने वाली भर्ती रैली को लेकर युवाओं का पंजीकरण शुरू हो चुका है। सेना की वेबसाइट पर एक जुलाई से रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू हुई थी।

सेना भर्ती कार्यालय के भर्ती निदेशक कर्नल मुनीष शर्मा ने बताया कि 30 जुलाई तक युवाओं के रजिस्ट्रेशन पूरे होने के बाद जिलेवार होने वाली भर्ती रैली का कार्यक्रम घोषित किया जाएगा।

दो साल की छूट

इस बार भर्ती रैली में युवाओं को भर्ती की आयु सीमा में दो साल की छूट की दी गई है। कोटद्वार में लैंसडौन सेना भर्ती कार्यालय की ओर से 19 अगस्त से भर्ती रैली की तिथि प्रस्तावित है।

आनलाइन रजिस्ट्रेशन के बाद वेबसाइट पर ही युवाओं के प्रवेश पत्र अपलोड हो जाएंगे, जिनका प्रिंट निकालकर युवाओं को प्रस्तावित तिथि के दौरान भर्ती रैली में जरूरी दस्तावेजों के साथ पहुंचना होगा।

ये है ‘अग्निपथ’ योजना

‘अग्निपथ’ योजना के तहत युवाओं को आर्म्ड फोर्सेस में बतौर अग्निवीर सेवा का अवसर दिया जा रहा है। भारत सरकार ने तीनों सेनाओं में भर्ती के लिए अग्निपथ योजना शुरू की है।

सरकार ने कहा है कि सेना में चार साल की सेवा के बाद 25 प्रतिशत अग्निवीरों तो सेना में ही स्थायी रूप से ले लिया जाएगा। सेना में चार साल की सेवा के बाद 10वीं पास करके ही आया होगा। उन्हें कक्षा 12वीं का सर्टिफिकेट दिया जाएगा।

आगे की पढ़ाई के लिए ब्रिजिंग कोर्स की सुविधा दी जाएगी और जो युवा नौकरी करना चाहेंगे उन्हें कई केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों और राज्य पुलिस भर्ती में प्राथमिकता दी जाएगी।

उत्तराखंड