उत्तराखंड: क्या कांग्रेस छोड़ देंगे प्रीतम सिंह, जानें उन्होंने क्यों कहा, इस्तीफा दे दूंगा!

देहरादून: कांग्रेस में प्रदेश अध्यक्ष, नेता प्रतिपक्ष और उप नेता सदन की नियुक्ति के बाद कांग्रेस में घमासान शुरू हो गया है। प्रीतम सिंह पर लगातार गुटबाजी के आरोप लग रहे हैं। उन्होंने कहा कि उन पर लगाए जा रहे आरोप गलत हैं। साथ ही कहा कि अगर उन पर लगे गुटबाजी के आरोप केंद्रीय नेतृत्व जांच कर सही साबित कर दे तो वो इस्तीफा देने के लिए तैयार हैं। उन्होंने यह भी कहा कि उनके पास दूसरे विकल्प खुले हैं।

प्रीमत सिंह के इस बयान को सीएम धामी से उनकी मुलाकात से जोड़कर भी देखा जा रहा है। प्रीतम सिंह कल देर शाम सीएम धामी से मिले थे। गुटबाजी के आरोप से आहत कांग्रेस विधायक प्रीतम सिंह ने एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि यदि विधानसभा में पार्टी  गुटबाजी के कारण हारी है तो केंद्रीय नेतृत्व जांच कराए।

उन्होंने कहा कि जांच में अगर दोषी पाया जाता हूं तो मुझे विधायक पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। प्रीतम ने कहा कि मेरे पास पास विकल्प है। चकराता की जनता ने मुझे चुनकर भेजा है। मैं उनके विधायक के रूप में काम कर रहा हूं।द सोमवार को कांग्रेस के कद्दावर नेता व विधायक प्रीतम से यह बयान दिया। इससे पहले वह रविवार देर सीएम पुष्कर सिंह धामी से मिले थे।

राजनीतिक और सार्वजनिक जीवन में रहने वाले लोग कभी अपनों से तो कभी विरोधियों से मिलते ही रहते हैं। लेकिन कुछ मुलाकातों की टाइमिंग ऐसी होती है, जिससे फिजा में तरह-तरह सवाल तैरने लगते हैं और उनके मायने तलाशे जाने लगते हैं। कुछ ऐसा ही प्रीतम सिंह के साथ भी हुआ।

उत्तराखंड