उत्तरकाशी : कई परिवारों पर मंडराया संकट, 7 परिवारों ने छोड़ा गांव 

उत्तरकाशी : कई परिवारों पर मंडराया संकट, 7 परिवारों ने छोड़ा गांव  पहाड़ समाचार editor

बड़कोट : लगातार हो रही भारी बारिश जनजीवन को बुरी तरह प्रभावित कर दिया है। भूस्खलन के कारण जहां पर देश भर में सड़कें बंद हैं। वहीं, लोगों के आवासीय भवनों को भी कई जगहों पर खतरा हो गया है। कई परिवारों पर संकट मंडरा रहा है।

उत्तरकाशी जिले के नौगांव ब्लॉक के सरनौल गांव में आवासीय भवनों के खतरे की जद में आने के कारण लोगों ने अपने घरों को छोड़ना शुरू कर दिया है। गांव के कुछ लोगों ने जहां स्कूल भवन में शरण ली है। वहीं, कुछ परिवारों ने पंचायत भवन को अपना ठिकाना बना लिया है। प्रशासन की टीम ने निरीक्षण के बाद लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने के लिए कहा था।

भूस्खलन का निरीक्षण करने के बाद प्रशासन की टीम ने खतरे की जद में आने वाले सात परिवारों को अपने मकान खाली करने की सलाह दी, जिसके बाद प्रभावित ग्रामीण प्रताप राणा के परिवार ने राजकीय इंटर कालेज सरनौल में शरण ली।

गांव के प्रवीन राणा, तरवीन राणा और संजय राणा के परिवार गांव के पंचायत घर में रह रहे हैं। जबकि, उदय सिंह राणा, जबर सिंह राणा और चंदन सिंह राणा के परिवार ने प्राथमिक विद्यालय सरनौल में शरण ले रखी है।

सरनौल गांव के इन परिवारों का यह दर्द नया नहीं है। करीब 30 साल पहले गांव के इन परिवारों को विस्थापित कर विकासनगर और पुरोला के धुनगिरी में बसाने की योजना पर चर्चा हुई थी। लेकिन, वह योजना केवल कागजों में दफन होकर रह गई।

अब सवाल यह है जिन परिवारों को मजबूरी में अपने घर छोड़ने पड़े हैं, वो कहां जाएंगे। फिलहाल गांव छोड़ने को मजबूरी परिवार स्कूल और पंचायत भवन में शरण लिए हुए हैं। लेकिन, यहां वो कितने दिनों तक रह सकेंगे यह भी अपने आप में एक बड़ा सवाल है।

उत्तरकाशी : कई परिवारों पर मंडराया संकट, 7 परिवारों ने छोड़ा गांव  पहाड़ समाचार editor

उत्तराखंड