उत्तरकाशी: एंबुलेंस कर्मचारियों ने उठाया गैंती-बेलचा, खुद खोली बंद रोड

उत्तरकाशी: एंबुलेंस कर्मचारियों ने उठाया गैंती-बेलचा, खुद खोली बंद रोड पहाड़ समाचार editor

सारीगाड़: सरकार दावे करती है कि सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को बरसात के समय 24 घंटे अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए गए हैं। लेकिन, सरकार के इन दावों की पोल ये तस्वीरें खोल रही हैं। इन तस्वीरों में साफ नजर आ रहा है कि एंबुलेंस कर्मचारी कुद ही गैंती-बेलचा हाथ में लेकर सड़क खोलने में जुटे हैं।

ये तस्वीर लोक निर्माण विभाग मंत्री के दावों की हकीतक को भी सामने लाने के लिए काफी है। दरअसल, सारीगाड़ लोदन के पास रोड़ बंद मलाबा आने से बंद हो गई। एंबुलेंस किसी मरीज को लेने जा रहा थी। सड़क बंद देख कर्मचारियों ने खुद ही गैंती-बेलचा उठाया हो सड़क खोलने का प्रयास करने लगे। इस रोड की हालत बेहद खराब है।

एंबुलेंस कर्मचारियों ने तत्परता दिखाते हुए खुद ही रोड खोली। रोड बंद हो की सूचना लोक निर्माण विभाग अधिकारियों को भी दी गई थी, लेकिन जब तक रोड़ खोलने के लिए जेसीबी पहुंचती, एंबुलेंस कर्मचारी मरीज को लेकर जा चुके थे।

लोक निर्माण विभाग के एई भगत सिंह रावत का कहना है कि उनके पास दो जेसीबी हैं। सड़कें अलग-अलग क्षेत्रों में बंद हो रही हैं। आने-जाने में काफी समय लग जाता है। एंबुलेंस जिस जगह पर फंसी थी, उस रोड को साफ कर दिया गया है। उनका कहना है कि रोड़ पर बह रहे पानी की निकासी की जाएगी।

उत्तरकाशी: एंबुलेंस कर्मचारियों ने उठाया गैंती-बेलचा, खुद खोली बंद रोड पहाड़ समाचार editor

उत्तराखंड