उत्तराखंड: UKSSSC भर्ती घोटालों ने चकनाचूर किए बेरोजगारों के सपने, 4200 पदों पर भर्ती पर रोक

उत्तराखंड: UKSSSC भर्ती घोटालों ने चकनाचूर किए बेरोजगारों के सपने, 4200 पदों पर भर्ती पर रोक पहाड़ समाचार editor

  • पुलिस कांस्टेबल और दरोगा भर्ती अटकी.

  • 3 लाख से ज्यादा युवाओं को भर्ती का इंतजार .

देहरादून: उत्तराखंड अधीनस्त चयन सेवा आयोग (UKSSSC) में भर्ती घोटालों ने लाखों युवाओं के सपनों को एक झटके में चकनाचूर कर दिया है। आयोग के तहत होने वाली 8 भर्ती परीक्षाओं को रोक दिया गया है। इन भर्ती परीक्षाओं के जरिए 4200 पदों पर भर्ती होनी थी, जिसके लिए युवा लंबे समय से इंतजार कर रहे थे। लेकिन, अब उनका इंतजार और लंबा हो गया है।

जानकारी के अनुसार, पिछले दिनों UKSSSC के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने से पहले एस राजू ने शासन को भर्तियां रोकने का पत्र भेजा। पत्र में उन्होंने कहा कि, इन भर्तियों को कराने के लिए पिछले 8 महीने से परीक्षा नियंत्रक नहीं है। जब तक शासन परीक्षा नियंत्रक तैनात नहीं करता तब तक परीक्षाएं नहीं हो पाएगी। दिसंबर में परीक्षा नियंत्रक नारायण डांगी सेवानिवृत्त होने के बाद कामचलाऊ व्यवस्था के तहत सचिव के पास परीक्षा नियंत्रक की जिम्मेदारी है। वहीं कार्मिक विभाग का कहना है कि, परीक्षा नियंत्रक पद पर तैनाती के लिए प्रक्रिया चल रही है।

UKSSSC ने जिन भर्तियों पर रोक लगाई गई है, उनकी आवेदन प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। इनमें कुल 4,200 पदों पर होने वाली 8 भर्तियां हैं। इनमें फॉरेस्ट गार्ड के 894 पद, पटवारी- लेखपाल के 520 पद, पुलिस कांस्टेबल के 1521 पद, पुलिस एसआई के 272 पद, लैब असिस्टेंट भर्ती के 200 पद, सहायक लेखाकार री-एग्जाम के 662 पद, उत्तराखंड जी भर्ती के 76 पद और गन्ना पर्यवेक्षक के 100 पद शामिल हैं। इन पदों के लिए युवाओं ने बड़ी संख्या में आवेदन किया है। करीब तीन लाख से ज्यादा युवाओं को इन भर्तियों का इंतजार है।

उत्तराखंड: UKSSSC भर्ती घोटालों ने चकनाचूर किए बेरोजगारों के सपने, 4200 पदों पर भर्ती पर रोक पहाड़ समाचार editor

उत्तराखंड