उत्तराखंड: SDRF फिर बनी संकट मोचक, नदी के बीच कार में फंसे लोगों का देर रात किया रेस्क्यू

उत्तराखंड: SDRF फिर बनी संकट मोचक, नदी के बीच कार में फंसे लोगों का देर रात किया रेस्क्यू पहाड़ समाचार editor

  • मोचक की भूमिका में खड़े रहते हैं SDRF के जवान.

  • रेस्क्यू में माहिर है उत्तराखंड SDRF.

ऋषिकेश: SDRF आपदा के समय में लगातार लोगों के लिए संकट मोचक की भूमिका में खड़ी रहती है। SDRF के जवान 24 घंटे अलर्ट पर रहते हैं। किसी भी तरह की मदद के लिए सूचना मिलते ही दिन-रात की की परवाह किए बगैर दौड़ते हैं। देर रात को ऋषिकेश और चीला के बीच होकर बहने वाली बीन नदी में उफान आ गया। इस बात से अनजान कार सवार तीन लोग बीच नदी में फंस गए।

कार सवार हरिद्वार से ऋषिकेश जा रहे थे। सूचना मिलने पर मैके पर पहुंची SDRF ने लोगों को रेस्क्यू कर सुरक्षित बचाया। जानकारी के अनुसार एसडीरआरएफ को देर रात करीब एक बजे आपदा कंट्रोल रूम से सूचना मिली थी। बताया गया कि कार सवार तीन लोग बीन नदी में फंस गए हैं।

उत्तराखंड: पौड़ी जिले के इन दो गांवों में फटा बादल!

स्ते पर ले जाने की कोशिश की। कार में सवार मनीष जखमोला (31 वर्ष) पुत्र श्री भगवती प्रसाद, ऋषिकेश, विकास उनियाल(36 वर्ष) पुत्र प्रकाश उनियाल निवासी नोएडा उत्तर प्रदेश, सूरज सिंह ( 28 वर्ष) पुत्र भानु प्रताप सिंह नोएडा उत्तर प्रदेश को रेस्क्यू कर सुरक्षित नदी से बाहर निकाला गया।

उत्तराखंड: SDRF फिर बनी संकट मोचक, नदी के बीच कार में फंसे लोगों का देर रात किया रेस्क्यू पहाड़ समाचार editor

उत्तराखंड