उत्तराखंड: नाबालिग को मंदिर में शादी कराने ले गया दूल्हा, पंडित जी ने कर दिया इंकार, उठाया ये कदम

ऋषिकेश: शहर में नाबालिग से जबरन शादी करने का मामला सामने आया है। आरोपी युवक, उसका जीजा और नाबालिग की मां मंदिर में शादी कराने पहुंचे थे। लेकिन, वहां पंडित ने शादी कराने से इंकार कर दिया। इस पर दूल्हा नाबालिग के गले में जबरने बरमाला डालकर उसे वहां से भगा ले गया। इसकी जानकारी उन्होंने पुलिस को दी। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

नाबालिक के साथ बाल विवाह करने वाले आरोपित, उसके जीजा, नाबालिक की मां और एक अन्य आरोपित को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस ने नाबालिक को चाइल्ड लाइन एवं महिला बाल विकास परियोजना की टीम के सुपुर्द कर दिया है। पुलिस के मुताबिक शांति नगर ऋषिकेश निवासी रेखा कोठियाल ने सुबह श्यामपुर पुलिस चौकी को सूचना दी गई।

उन्होंने बताया कि उनकी 14 साल की नाबालिग भतीजी का उनकी मां मनसा देवी मंदिर में हस्तिनापुर मेरठ निवासी कपिल के साथ शादी करा रही है। उन्होंने बताया कि इसकी सूचना उन्होंने चाइल्ड हेल्प लाइन देहरादून और महिला बाल विकास परियोजना की टीम को भी दी है।

पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए पमहिला को साथ लेकर गुमानीवाला स्थित मनसा देवी मंदिर पहुंची। मंदिर में जाकर जानकारी मिली कि मंदिर के पुजारी ने बालिका के नाबालिक होने के कारण शादी कराने से मना कर दिया। पुजारी ने बताया कि शादी के लिए मना कराए जाने पर कपिल ने जबरन नाबालिग के गले में फूलों की माला डालकर आल्टो कार में मेरठ की ओर ले गया है।

जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने तत्काल श्यामपुर चौकी के पास वाहनों की चेकिंग शुरू की। इस बीच चाइल्ड लाइन और महिला बाल विकास परियोजना की टीम भी मौके पर पहुंच गई थी। टीम की मौजूदगी में पुलिस ने श्यामपुर फाटक के पास उ कार को रोक लिया।

जिसके बाद पुलिस ने आरोपित दूल्हा कपिल कुमार, नकुल सहित नाबालिग की मां और एक अन्य दीपक निवासी गली नंबर 4 शांति नगर ऋषिकेश जनपद देहरादून को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों के खिलाफ बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम-2006 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

उत्तराखंड